सरगम

Yuvraj Kamble

सरगम
(1)
वाचक संख्या − 51
वाचा

सारांश

हमारी खामोशी की वजह थी के उनके दामन पर कही दाग ना लग जाये..... रुसवा भी ना किया उन्हे के दोस्ती अपना इमान ना भूल जाये..... शिकवा करू भी तो कैसे उस खुदा से कही उसके वजुद से ही इनकार ना हो जाये..... ...

टिप्पण्या

एक टिप्पणी लिहा
sangeeta Kamble
nice
प्रत्युत्तर
marathi@pratilipi.com
080 41710149
सोशल मीडिया वर अनुसरण करा
     

आमच्या विषयी
आमच्यासोबत काम करा
गोपनीयता धोरण
सेवा अटी
© 2017 Nasadiya Tech. Pvt. Ltd.